10,000 उधर लेकर शुरू हुआ उद्यम आज 13,800 करोड़ रुपये का है | Rajesh Export Story

Rajesh Export Story: हमारे देश भारत में Startup कल्चर बढ़ते जा रहा हैं, हर दिन नए-नए स्टार्टअप शुरू हो रहे हैं जिसके कारण हमारे देश की इकोनॉमी भी तेजी से आगे बढ़ती जा रही हैं। हम आज आपके लिए इस व्यवसाय और स्टार्टअप क्षेत्र से एक कहानी लेकर आए हैं जिसमें एक सख्श ने 10,000 रुपये का लोन लेकर आज एक करोड़ों रुपये की कंपनी बनाई है। Rajesh Export Story

आज हम भारतीय उद्योगपति राजेश मेहता की बात कर रहे हैं, जो राजेश एक्सपोर्ट्स कंपनी का मालिक हैं. उनकी मेहनत और धैर्य ने आज कंपनी को 13,800 करोड़ रुपए का बनाया है। Rajesh Mehta को भारतीय उद्यमियों में सोने का सौदागर भी कहा जाता है।

Rajesh Export Story

Rajesh Export Story
Rajesh Export Story

हम आज के लेख में आपको राजेश एक्सपोर्ट्स की कहानी बताने वाले हैं और यह भी जानेंगे कि राजेश मेहता ने इस कंपनी को आज एक करोड़पति बनाया है। आपको बता दें कि राजेश मेहता की Rajesh Exports कंपनी कुछ साल पहले स्टॉक मार्केट में सूचीबद्ध हुई थी।

10,000 रुपये के उधार से 13,800 करोड़ की कंपनी

राजेश ने ज्वैलरी उद्योग में कुछ बड़ा करना चाहते हुए अपने भाई से 2,000 रुपए उधार लिए और फिर बैंक से 8,000 रुपए का लोन लिया। 1982 में राजेश ने 10,000 रुपए उधार लेकर Rajesh Exports नाम से अपनी कंपनी को शुरू किया।

शुरू में राजेश चेन्नई से छोटी-छोटी ज्वैलरी खरीदकर गुजरात में बेचते थे। जब उन्हें काम में सफलता मिली, तो उन्होंने अपने कारोबार को हैदराबाद से चेन्नई तक बेचने शुरू कर दिया।

1989 में राजेश मेहता ने सोने के आभूषणों का उत्पादन शुरू किया, जो उनके जीवन में सबसे बड़ा मोड़ लाया। राजेश ने बेंगलुरु में एक छोटी सी गोल्ड मेकिंग यूनिट बनाई, जहां से वे सोने से बने उत्पादों को पूरी दुनिया में बेचते थे. आज, यह छोटी सी यूनिट एक्सपोर्ट्स में बदल गई है, जिसकी वैल्यूएशन 13,800 करोड़ रुपए है।

राजेश मेहता के शुरुआती दिन कैसे थे ?

Rajesh Mehta गुजरात, भारत में रहते हैं। राजेश ने बचपन से डॉक्टर बनने का सपना देखा था, लेकिन शायद उनकी किस्मत में ऐसा नहीं था। जसवंतरी मेहता नामक उनके पिता ज्वैलरी का बिजनेस करते थे। राजेश की पढ़ाई कर्नाटक के बेंगुलरू में हुई क्योंकि उसके पिता अपने ज्वैलरी का बिजनेस चलाने आए थे।

राजेश ने अपने अध्ययन के दौरान सिर्फ 16 साल की उम्र में अपने पिता के व्यवसाय में सहयोग करना शुरू कर दिया था। पिता के साथ बिजनेस में काम करते हुए उन्होंने ज्वैलरी उद्योग में कुछ बड़ा करने का मन बना लिया. यही कारण था कि राजेश ने Rajesh Exports कंपनी को शुरू किया।

कंपनी भी स्टॉक मार्केट में सूचीबद्ध है

आपको बता दें कि राजेश मेहता की ये कंपनियां शेयर बाजार में भी लिस्टेड हैं, जिसका मार्केट कैप 13,800 करोड़ रुपए है। Rajesh Exports कंपनी अब हर साल चार सौ टन से अधिक सोने के ज्वैलरी बनाती है, जो उन्हें दुनिया भर में एक अलग पहचान दिलाती है।

साथ ही, हम आपको बता देंगे कि Rajesh Exports के पास स्विट्जरलैंड में अपना खुद का गोल्ड रिफाइनरी है। हमेशा सकारात्मक सोच और खुद पर विश्वास के कारण राजेश मेहता ने आज इतनी बड़ी कंपनी बनाई है।

Leave a Comment