Bhanu Chopra Success Story – 127 करोड़ रुपये का घर खरीदने की प्रेरक कहानी स्टार्टअप दुनिया से

Bhanu Chopra Success Story: वर्तमान ट्रेवल टेक्नोलोजी दुनिया में भानु चोपड़ा का नाम चमक रहा है। यह कहानी निरंतर भानु चोपड़ा को ट्रेवल टेक्नोलोजी मार्केट की असली समस्या को समझने और उसे एक सफल व्यवसाय बनाने की प्रेरणा देती है

Bhanu Chopra Success Story

Bhanu Chopra Success Story
Bhanu Chopra Success Story

Bhanu Chopra ने ट्रैवल मार्केट की समस्याओं का अध्ययन किया

2004 में Bhanu Chopra की बिजनेस जर्नी होती है। 2004 में Deloitte जैसे बड़े बैंक में कंसल्टेंट थे। उनकी वजह से यूरोप और अमेरिका में आना जाना लगा रहता था। इस दौड़ के दौरान ही उन्हें मार्केट में कमी मिली। उन्हें लगता था कि दुनिया में कोई ऐसा प्लेटफार्म नहीं है जो एक स्थान पर ट्रैवल संबंधित प्राइस कंपारिजियन कर सकता है। और यहीं से उनका व्यवसाय आइडिया निकला, जिसे उन्होंने RateGain नाम दिया।

RateGain Company की शुरुआत Bhanu Chopra ने की

RateGain जैसे बड़े व्यवसायों ने फ्लाइट रेट्स को कंपेयर करने की छोटी कल्पना को बदल दिया। Bhanu Chopra ने बिजनेस-टू-बिजनेस क्षेत्र में कदम रखने के लिए स्टार्टअप वर्ल्ड की सभी चुनौतीओं का सामना करके एक मजबूत विजन बनाया था। B2B, यानी बिजनेस से बिजनेस, ऐसा बिजनेस है जो सीधे ग्राहक के साथ नहीं बल्कि अन्य बड़े बिजनेस को सेवाएं देकर काम करता है। आजकल, स्टार्टअप की शुरुआत बहुत जोर से होती है, लेकिन यह कुछ समय बाद कमजोर हो जाता है। RateGain को केवल एक साल में भानु चोपड़ा ने प्रॉजिटेबल बनाया।

आगे बढ़ने के लिए Bhanu Chopra ने बड़े ब्रांडों का साथ लिया

आजकल, कंपनी ने ट्रैवल क्षेत्र में बड़े-बड़े ब्रांडों के साथ कोलेबोरेशन किया है। SpiceJet, Tirvago, and Expedia are big travel companies। यह बड़े ब्रांडों के साथ काम करना भानू चोपडा की RateGain ट्रैवल इंडस्ट्री में बदलाव लाने की कगार पर है। और इन बदलावों के साथ व्यापार भी बढ़ता रहेगा।

Bhanu Chopra ने 127 करोड़ रुपये का घर खरीद लिया

हम सब चाहते हैं कि अपना खुद का घर हो। भानू चोपड़ा भी इसे चाहते थे। उन्होंने हाली में दिल्ली के गोल्फ्स लिंक रोड पर 127.05 करोड़ रुपये में एक शानदार बंगलो खरीदा है, जो उनकी सफलता की एक और कड़ी है। यह उपलब्धि आज की तारीख में उनकी कंपनी RateGain की मार्केट कैप (बाजार में उसकी कंपनी कितनी बड़ी है) 6750 करोड़ रुपए बन गई है।

अंततः, भानु चोपड़ा ने RateGain जैसी सफल कंपनी बनाई, क्योंकि उन्होंने बाजार की कमजोरियों को समझा। उन्हें लगन, मेहनत और प्रतिबद्धता से सिर्फ एक सफल उद्यमी नहीं बनते, बल्कि एक दिग्गज बनते हैं, जिसने पुरी ट्रैवल टेक्नोलोजी क्षेत्र में अपनी छाप छोड़ी है। भानु चोपड़ा की कहानी सबके लिए एक प्रेरणा और प्रेरणा साबित होती है, खासकर युवा उद्यमियों के लिए।

Bhanu Chopra ने वर्ष के संस्थापक घोषित किया

Bhanu Chopra के काम ने RateGain कंपनी से कई लोगों को प्रभावित किया था। Entrepreneur India मैगजीन ने उन्हें “फाउंडर ऑफ द ईयर” अवार्ड से सम्मानित किया, जिससे सभी ने उनके सफलताओं को माना। भानू चोपड़ा जी की मदद से पर्यटन क्षेत्र में बड़े बदलाव हुए हैं, और पर्यटन क्षेत्र अब भी नए ग्रोथ स्टोरी लिख रहा है।

Bhanu Chopra स्टार्टअप में निवेश करते हैं

Bhanu Chopra लगातार भारत में नवीनतम और अलग-अलग स्टार्टअप में निवेश करते हैं। जैसे उन्होने ट्रैवल क्षेत्र में बदलाव लाया है, ऐसे स्टार्टअप या नई कंपनियों का उदाहरण है जो दूसरे क्षेत्रों में उत्पन्न होने वाले समस्याओं को समझकर उनका समाधान कर रहे हैं। भानु चोपड़ा ने ऐसे नए उद्यमों में निवेश किया है। सिंगापुर की हॉस्पिटैलिटी कंपनी RedDoorz में भानू चोपड़ा डायरेक्टर है। वह अपने ज्ञान से नए उद्यमों को मार्गदर्शन देते हैं।

Leave a Comment